Followers

Thursday, December 30, 2010

आईना

देखती है जब वो आईना
तो नज़र आता है उसे चेहरा मेरा
क्योंकि
उसका चेहरा भी इक आईना है
जिसमें दिखता है चेहरा मेरा

मेरे हमराही
देखता हूँ जब मैं चेहरा तेरा
खिल उठता है तन मन मेरा
बजने लगता है सितार
गूंज उठती है शहनाई
और कहता है ये दिल
मत मेरे दिल को इतना सताओ
अब और भी तड़पाओ
बस अब करीब और
जल्दी ही मेरे करीब जाओ !

मान लो दिल की बात
चलें फिर साथ- साथ
उस रास्ते पर, जहाँ मंजिल भी
है या नहीं ????

- मुहम्मद शाहिद मंसूरी "अजनबी'

'14' 8th Apr., 1999

1 comment:

  1. भारतीय ब्लॉग लेखक मंच शहीद दिवस पर आज़ादी के दीवाने शहीद-ए-आज़म भारत माता के वीर सपूत भगत सिंह सहित उन सभी वीर सपूतो को नमन करता है जिन्होंने भारत माता को आजाद करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी.
    आईये हम सब मिलकर यह संकल्प ले की भारत की आन-बान और शान के लिए हम सदैव तत्पर रहेंगे. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete