Followers

Tuesday, February 21, 2012

आपकी आवाज़ में

है वो कशिश 
है वो अपनापन
है इक लगन
आपकी आवाज़ में

आप कहती रहें
मैं सुनता रहूँ
बस खो जाऊँ मैं
आपकी आवाज़ में

लव खोल दें चमन में आप
तो हर कली मुस्कुरा दे
डूब जाएँ खुशियों में
आपकी आवाज़ में

आये जब भी खिजां
आप मुस्कुरा देना
आ जायेंगे हम बहारों में
आपकी आवाज़ में

बस यही है आरजू
कायम रहे आपका जादू
मुहब्बत रहे आपके दिल में
मिल जाएं आपकी आवाज़ में

- मुहम्मद शाहिद मंसूरी "अजनबी" 
5th July 2000 '101'
 

3 comments:

  1. बस यही है आरजू
    कायम रहे आपका जादू
    मुहब्बत रहे आपके दिल में
    मिल जाएं आपकी आवाज़ में..... बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete